Tag: Kashmiriyat

३७० कलम काश्मीरला जोडणारा धागा होता, भिंत नव्हती

३७० कलम काश्मीरला जोडणारा धागा होता, भिंत नव्हती

‘भीष्म ने कहा था, गुरु द्रोण ने कहा था, इसी अन्त:पुर में आकर कृष्ण ने कहा था - ‘मर्यादा मत तोड़ो, तोड़ी हुई मर्यादा कुचले हुए अजगर-सी गुंजलिका में कौर ...